Search

समझदार लोग ही केवल इस लेख को पड़े,अगर आप प्यार से ताल्लुक रखतेहै तो ढेरों भ्रम दूर हो जाएंगे ।

#जिंदगी में कभी न कभी आपका सामना किसी ऐसी स्त्री से जरूर हुआ होगा जिसके आकर्षण ने बरबस ही आपका ध्यान उसकी तरफ खींच लिया होगा। वो #आकर्षण उसकी मोहिनी सूरत का रहा हो, उसके खूबसूरत जिस्म का रहा हो या फिर आप उसकी मदभरी चितवन पर मुग्ध हो गये हों- उस #अनजान स्त्री को आपने सिर्फ एक बार देखा हो और आप दोबारा उसे न देख पाये हों (ऐसा किसी सार्वजनिक स्थान जैसे राह चलते हुए, ट्रेन, होटल, हॉस्पिटल या किसी पार्टी इत्यादि में हो सकता है)। कितने प्रतिशत चांस हैं की आप उससे प्रेम करने लगेंगे ? शायद जीरो प्रतिशत।

आप हॉलीवुड/बॉलीवुड की किसी अप्सरा जैसी नायिका को देखते है। कितने प्रतिशत चांस हैं कि आप उससे प्रेम करने लगेंगे ? शायद जीरो प्रतिशत।

📷



लेकिन- आपकी मुलाकात एक स्त्री से होती है, आप उसके प्रति आकर्षण फील करते है, आपको ये भी लगता है कि वो भी आपके प्रति आकर्षित है, आप दोनों के बीच बातचीत और मुलाकातें होती है, न केवल आपका लगाव उसके प्रति बढ़ने लगता है बल्कि आप उसका लगाव हासिल करने के लिये भी प्रयास करने लगते है। आपको महसूस होता है कि आप उससे #प्रेम करने लगे है, उस स्त्री की एक खास छवि (आपके प्रति उसका अंदाज,व्यवहार ) आपके ख्यालो में बस जाती है और उस छवि को साकार रूप में देखने के लिये आप हमेशा तन मन धन से प्रयासरत रहते हैं। वो छवि आपकी तमाम खुशियों का श्रोत बन जाती है। अब आप उससे प्यार करने लगे है। आप प्यार में पड़ चुके है।

क्योंकि- इट्स ऑल अबाउट #इन्वेस्टमेंट

यहां पर मैं "इन्वेस्टमेंट" शब्द का इस्तेमाल ब्रॉड सेंस में भावनाओ और विचारों के इन्वेस्टमेंट से लेकर तन मन धन के इन्वेस्टमेंट तक के लिये कर रहा हूँ। किसी के बारे में सोचना, उसके अस्तित्व को अपने साथ जोड़कर देखना या उसकी किसी अवस्था को अपनी भावनाओ से जोड़ लेना - ये सब उस व्यक्ति में आपकी (मानसिक) इन्वेस्टमेंट हैं। किसी व्यक्ति के लिये तन मन धन के जरिये आपके द्वारा किया गया हर वो कार्य जिसका रिफ्लेक्शन अहसास के रूप में आप तक पहुंचता है, उस व्यक्ति में आपकी इन्वेस्टमेंट है। जिस अनुपात में आप इन्वेस्टमेंट करते जाएंगे उसी अनुपात में उस व्यक्ति के प्रति आपका प्यार बढ़ता जायेगा।

क्या प्यार देने से प्यार मिलता है ?

जी नही, प्यार के बदले में प्यार नही मिलता है।

आप अपनी प्रेमिका को दिलो जान से चाहने के बावजूद भी उसका प्यार पाने में असफल रह सकते हैं। क्यों ?एक मां के अपने पुत्र का पालन पोषण करने और उससे बेहद लगाव रखने के बावजूद भी हो सकता है कि पुत्र को मां से कोई लगाव न हो। क्यों ?एक पिता अपने पुत्र के प्रति तमाम कर्तव्यों को पूरा करने के बाद भी पुत्र का प्यार प्राप्त नही कर पाता है। क्यों ?एक #खूबसूरत और पतिव्रता पत्नी के होते, एक पुरुष किसी परायी स्त्री से प्रेम करने लगता है। क्यों ?

क्योंकि- इट्स ऑल अबाउट इन्वेस्टमेंट।

इंसानी जीवन का ये एक कटु सत्य है कि हम उनसे प्यार नही करते हैं जो हमे प्यार करते है या हमारी खुशियों के लिये बहुत कुछ करते हैं, बल्कि हम उनसे प्यार करते है जिनमें हम इन्वेस्टमेंट करते हैं। अपनी भावनाओ का इन्वेस्टमेंट, अपने अहसासों का इन्वेस्टमेंट, अपने मन का इन्वेस्टमेंट, अपने फर्ज का इन्वेस्टमेंट, अपने विचारों का इन्वेस्टमेंट, अपने वक्त का इन्वेस्टमेंट……

गौर फरमाएं की - जो आपसे मुहब्बत करता है उसने आप मे इन्वेस्टमेंट की हुई है जबकि आप उससे मुहब्बत करेंगे जिसमे आपने इन्वेस्टमेंट की हैं।

आपकी मां ने नौ माह आपको अपनी कोख में रखकर और आपके जन्म के बाद आपके पालन पोषण करने में आप मे इन्वेस्टमेंट की है इसलिये आपकी मां आप से #मुहब्बत करती है जबकि आपकी इन्वेस्टमेंट अपनी पत्नी में है इसलिये आप पत्नी से प्यार करते हैं।आपके पिता ने आपकी परवरिश करने में आप मे इन्वेस्टमेंट की है इसलिए आपके पिता आप से मुहब्बत करते है जबकि आपकी इन्वेस्टमेंट अपने पुत्र में है इसलिये आप अपने पुत्र से प्यार करते हैं।एक ऐसी पत्नी जो अपने पति की सेवा करती है और हर प्रकार उसका ख्याल रखती है, उसकी इन्वेस्टमेंट अपने पति मे है इसलिये वो अपने पति से मुहब्बत करती है जबकि प्रेमिका की जो छवि पति के मन मे बसी है उस छवि को साकार रूप में देखने के लिये उसके द्वारा किया गया हर प्रयास उसकी इन्वेस्टमेंट है जो उसने अपनी प्रेमिका में की हुई है और इसीलिये वो अपनी प्रेमिका से प्यार करता है।तस्वीर के दूसरे रुख पर गौर करें तो एक ऐसा भाई जिसने फर्ज की खातिर अपनी बहन को पढ़ा लिखा कर उसकी शादी का खर्च अपनी मेहनत की कमाई से उठाया हो, उसकी इन्वेस्टमेंट अपनी बहन में है इसलिये वो अपनी बहन से अत्यधिक प्रेम करेगा बेशक उसकी बहन उससे प्रेम न करती हो। इसी प्रकार एक ऐसी बहन जो अपने भाई का अत्यधिक ख्याल रखती आयी हो अपने भाई से प्रेम रखेगी बेशक उसका भाई उससे प्रेम न रखता हो।

विशेष:- #इज्जत, #दौलत, #शौहरत, #नशा, #खुशी, #सुकून, #प्यार इत्यादि किसी की भी प्राप्ति के लिये आपके द्वारा की गयी इनशिएल इन्वेस्टमेंट के बाद यदि आपका दिलो दिमाग आपको और ज्यादा इन्वेस्टमेंट करने के लिये प्रेरित कर रहा है तो जितना आप इन्वेस्टमेंट करते जायेंगे उतना ही उसमे आपका मोह बढ़ता जायेगा। अगर ये इन्वेस्टमेंट आप किसी व्यक्ति में कर रहे है तो उस व्यक्ति से आप प्रेम करने लगेंगे और ये प्रेम उस व्यक्ति में आपकी इन्वेस्टमेंट के अनुपात में बढ़ता जायेगा।

बदले में वह व्यक्ति बेशक आपको सम्मान दे सकता है, आपकी #प्रशंशा कर सकता है, आपको एक अच्छे इंसान के रूप में देख सकता है, आपका अहसानमंद हो सकता है, आपके लिये दुखी हो सकता है, आप पर तरस खा सकता है, आपके लिये बदले में कुछ करने की सोच सकता है,आपके सामने सर झुका सकता है- गरज ये की उसके दिल मे आपके लिये कोई भी अच्छी भावना उत्पन्न हो सकती है लेकिन अगर उस व्यक्ति की आपमे जीरो इन्वेस्टमेंट है तो वह आपसे प्यार नही कर सकता है, नही कर सकता है, नही कर सकता है।

इश्क़ पर जोर नही, है ये वो आतिश ग़ालिब।

के लगाये न लगे, और बुझाये न बने।।

0 views